Biography

“हिमा दास की जीवनी” (Biography of Hima Das in Hindi)

हिमा दास एक भारतीय धावक हैं। हिमा के पास 400 मीटर में 50.79 सेकेंड के समय के साथ मौजूदा भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड है. उन्होंने 400 मीटर की दौड़ स्पर्धा में 51.46 सेकेंड का समय निकालकर स्वर्ण पदक जीता। 2018 में, उन्होंने कॉमनवेल्थ खेलों की 400 मीटर की स्पर्धा में 51.32 सेकेंड में दौर पूरी करते हुए छठवाँ स्थान प्राप्त किया था। उन्होंने 18वें एशियन गेम्स 2018 जकार्ता में हिमा दास ने दो दिन में दूसरी बार महिला 400 मीटर में राष्ट्रीय रिकार्ड तोड़कर रजत पदक जीता है। 20 जुलाई 2019 में, उन्होंने 400 मीटर की स्पर्धा दौड़ में 52.09 सेकेंड के समय में जीत हासिल की. हिमा का जुलाई  2019 में मात्र 19 दिनों के भीतर उन्होंने पांचवां स्वर्ण पदक प्राप्त किया है.

व्यक्तिगत जीवन:-

हिमा दास का जन्म 9 जनवरी 2000 को ढिंग, नागों, असम में हुआ था. उनके पिता का नाम रणजीत दास है. उनकी माता का नाम जोनाली दास है। उनके माता-पिता चावल की खेती करते है. हिमा के चार बहन-भाई है. उन्होंने अपनी शुरूआती पढाई धींग पब्लिक हाई स्कूल से पूर्ण की. स्कूल के दोरान उन्हें फुटबॉल खेलने में दिलचस्पी थी। वह अपने स्कूल में लड़कों के साथ फुटबॉल खेलती थी और हमेशा से ही फुटबॉल में अपना करियर बनाना चाहती थी। बाद में, उन्होंने जवाहर नवोदय विद्यालय के शारीरिक शिक्षक शमशुल हक की सलाह पर उन्होंने दौड़ना शुरू किया। वह जिला स्तरीय प्रतियोगिता में चयनित हुईं और दो स्वर्ण पदक भी जीतीं। मई 2019 में, उन्होंने असम उच्चतर माध्यमिक शिक्षा परिषद से 12 वीं कक्षा की परीक्षा दी।

करियर:-

अप्रैल 2018 में, उन्होंने गोल्ड कोस्ट, ऑस्ट्रेलिया में 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में 400 मीटर और 4 × 400 मीटर रैली में भाग लिया। उन्होंने 51.32 सेकंड के समय में छठा स्थान हासिल किया. 12 जुलाई 2018 को, उन्होंने टैम्पियर, फ़िनलैंड में आयोजित विश्व अंडर -20 चैंपियनशिप 2018 में 400 मीटर फ़ाइनल जीता. वह अंतर्राष्ट्रीय ट्रैक इवेंट में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय धावक बन गयी। 26 अगस्त 2018 को, उन्होंने 400 मीटर फाइनल में राष्ट्रीय रिकॉर्ड सुधार कर 50.79 सेकेंड का समय जीता और रजत पदक जीता।

2 जुलाई, 2019 को, उन्होंने पोलैंड में पॉज़्नान एथलेटिक्स ग्रां प्री में 23.65 सेकंड के समय के साथ 200 मीटर की रेस में गोल्ड जीता। 7 जुलाई, 2019 को, हिमा ने 23.97 सेकंड में कुट्नो एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक जीता. 13 जुलाई 2019 को, उन्होंने कल्दनो एथलेटिक्स मीट में 23.43 सेकंड के समय के साथ 200 मीटर रेस में स्वर्ण हासिल किया. 17 जुलाई 2019 को, फिर उन्होंने चेक गणराज्य में टाबर एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीता। 20 जुलाई 2019 को, उन्होंने चेक गणराज्य में नाओवे मेस्टो में 400 मीटर की दौड़ में पाचवां स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया. जुलाई 2019 में, उन्होंने सिर्फ एक महीने में कुल 5 स्वर्ण पदक जीतकर देश का नाम रोशन किया है।

अवार्ड और सम्मान:-

25 सितंबर 2018 को, हिमा दास को भारत के राष्ट्रपति द्वारा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

उन्हें असम सरकार द्वारा खेल के लिए असम के ब्रांड एंबेसडर के रूप में नियुक्त किया गया।

14 नवंबर 2018 को, उन्हें यूनिसेफ-इंडिया के भारत के पहले युवा राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया।

अन्य जानकरी:-

नाम हिमा दास
व्यवसाय एथलीट
पर्दापण 2018 में IAAF विश्व u20 चैंपियनशिप में
कोच निपोन दास
आयु 19 वर्ष (2019 के अनुसार)
ऊचाई इंच में 5’5
भार 50 कि.ग्रा.
बालो का रंग काला
आँखों का रंग भूरा
जन्मतिथि 9 जनवरी 2000
जन्मस्थान ढिंग, नागों, असम
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिन्दू
गृहनगर नागों, असम
स्कूल ज्ञात नही
विश्वविधालय ज्ञात नही
शिक्षा योग्यता ज्ञात नही
पिता का नाम रणजीत दास
माता का नाम जोमाली
बहन का नाम ज्ञात नही
भाई का नाम ज्ञात नही
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
बॉयफ्रेंड ज्ञात नही
शौक संगीत सुनना, फुटबॉल खेलना
पसंदीदा फुटबॉल प्लेयर निकोलस वेज
पसंदीदा गायक जुबीन गर्ग
कुल आय ज्ञात नही

मैने आपके साथ “हिमा दास की जीवनी” साझा की है आपको यह पोस्ट कैसी लगी। कृपया हमे कमेंट करके जरूर बताये।