निबंध

Gandhiji Ke Andolan In Hindi महात्मा गाँधी द्वारा संचालित आंदोलन

महात्मा गाँधी द्वारा संचालित आंदोलन

Gandhiji Ke Andolan In Hindi

#1 चंपारण

बिहार में चंपारण आंदोलन गांधी की भारतीय स्वतंत्रता में प्रथम सक्रिय भागीदारी थी। चंपारण के किसानों को नील की खेती करने के लिए मजबूर किया जा रहा था और अगर वे विरोध करते तो उनपर अत्याचार किया जाता था। किसानों ने गांधी की मदद की मांग की और एक अहिंसक विरोध के माध्यम से, गांधी प्राधिकरण से रियायतें हासिल करने में कामयाब रहे।

#2. खेडा

जब गुजरात का एक गांव खेड़ा बुरी तरह से बाढ़ की चपेट में आ गया, तब स्थानीय किसानों ने करमाफी के लिए अधिकारीयों से अपील की। यहां गांधी ने हस्ताक्षर अभियान शुरू किया जिसमें किसानों ने करों का भुगतान न करने की सहमती दी थी। उन्होंने राजस्व अधिकारियों का सामाजिक बहिष्कार किया। 1918 में, सरकार ने अकाल समाप्त होने तक राजस्व कर के भुगतान के नियमों को शिथिल किया।

#3 खिलाफत आंदोलन

मुस्लिम आबादी पर गांधी का प्रभाव उल्लेखनीय था। यह खिलाफत आंदोलन में उनकी भागीदारी में स्पष्ट था। प्रथम विश्व युद्ध के बाद, मुसलमानों ने अपने खलीफा या धार्मिक नेता की सुरक्षा पर चिंता जताई और खलीफा की गिरती स्थिति के खिलाफ लड़ने के लिए एक विश्वव्यापी विरोध सम्मेलन आयोजित किया जा रहा था। गांधी अखिल भारतीय मुस्लिम सम्मेलन के एक प्रमुख प्रवक्ता बने और अपने पदकों को वापस लौटा दिया। खिलाफत आन्दोलन में उनकी भूमिका ने उन्हें जल्द ही एक राष्ट्रीय नेता बना दिया।

#4 असहयोग आंदोलन

गांधी को एहसास हुआ कि अंग्रेज केवल भारतीयों से मिले सहयोग के कारण ही भारत में रहने में सक्षम हो गए हैं। इसे ध्यान में रखते हुए, उन्होंने एक असहयोग आंदोलन की शुरुआत की। कांग्रेस के समर्थन और अपनी अदम्य भावना के साथ, उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि शांतिपूर्ण असहयोग ही स्वतंत्रता की कुंजी हैं। जलियांवाला बाग नरसंहार के अशुभ दिन ने असहयोग आंदोलन शुरू किया. गांधीजी ने स्वराज या स्वशासन का लक्ष्य निर्धारित किया, जिसके बाद से यह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का आदर्श बन गया।

#5 नमक मार्च

यह दांडी आंदोलन के रूप में भी जाना जाता है। गांधी के नमक मार्च को स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना माना जाता है। 1928 में कलकत्ता कांग्रेस में गांधी ने घोषणा की थी कि अंग्रेजों भारत को प्रभुत्व का दर्जा दें अथवा देश पूर्ण स्वतंत्रता के लिए क्रांति में उठ खड़ा होगा। ब्रिटिश ने इस पर ध्यान नहीं दिया परिणामस्वरूप, 31 दिसंबर 1929 को लाहौर में भारतीय ध्वज फहराया गया और अगले 26 जनवरी को भारतीय स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया गया। फिर, गांधी ने मार्च 1930 में नमक कर के खिलाफ सत्याग्रह अभियान शुरू किया। उन्होंने नमक बनाने के लिए अहमदाबाद से दांडी तक 388 किलोमीटर की दूरी तक मार्च किया। हजारों लोग ने इसमें भाग लिया और इसे भारतीय इतिहास में सबसे बड़ा जुलूस बना दिया।

#6 भारत छोड़ो आंदोलन

यह 1942 में शुरू किया गया एक सविनय अवज्ञा आंदोलन था। इसमें करो या मरो का नारा दिया गया तथा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अगुवाई में एक बड़े पैमाने पर विरोध घोषित किया गया था। कुछ ही समय में, भारत छोड़ो आंदोलन को बुरी तरह से कुचल दिया गया। अंग्रेजों ने भारत को स्वतंत्रता देने से इनकार कर दिया और घोषित किया कि दुसरे विश्व युद्ध के समाप्त होने के बाद यह किया जायेगा। महात्मा गांधी के इन आंदोलनों के दौरान, बहुत से राजनीतिक नेताओं और कार्यकर्ताओं को लंबे समय तक कैद रखा गया लेकिन फिर ब्रिटिश सरकार ने अंततः महसूस किया कि भारत अब उनके नियंत्रण में नहीं रहेगा और यह मुख्य प्रश्न उठाया गया की इस तरह की भयावह स्थिति से शांति से कैसे बाहर निकल जाए।