Dr. Kumar Vishwas
हंगामा कविता

हुए पैदा तो धरती पर हुआ आबाद हंगामा
जवानी को हमारी कर गया बर्बाद हंगामा
हमारे भाल पर तकदीर ने ये लिख दिया जैसे
हमारे सामने है और हमारे बाद हंगामा

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत का
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा

कभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामा
कोई ख़्वाबों में आकर बस लिया दो पल तो हंगामा
मैं उससे दूर था तो शोर था साजिश है , साजिश है
उसे बाहों में खुलकर कस लिया दो पल तो हंगामा

जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा
ये जज्बातों, मुलाकातों हंसी रातों का हंगामा
जवानी के क़यामत दौर में यह सोचते हैं सब
ये हंगामे की रातें हैं या है रातों का हंगामा

कलम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा
गिरेबां अपना आंसू में भिगोता हूँ तो हंगामा
नही मुझ पर भी जो खुद की खबर वो है जमाने पर
मैं हंसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा

इबारत से गुनाहों तक की मंजिल में है हंगामा
ज़रा-सी पी के आये बस तो महफ़िल में है हंगामा
कभी बचपन, जवानी और बुढापे में है हंगामा
जेहन में है कभी तो फिर कभी दिल में है हंगामा

https://desibabu.in/wp-admin/options-general.php?page=ad-inserter.php#tab-2

-कुमार विश्वास


Hue Paida To Dharti Par Hua Aabad Hungama
Jawani Ko Hamari Kar Gaya Barbad Hungama
Hamare Bhaal Par Takdir Ne Ye Likh Diya Jaise
Hamare Samne Hain Aur Hamare Bad Hungama

Bhramr Koi Kumudani Par Machal Baitha To Hungama
Hamare Dil Mai Koi Khwab Pal Baitha To Hungama
Abhi Tak Dub Kar Sunte The Sab Kissa Muhabbat Ka
Main Kisse Ko Hakibat Mai Badal Baitha To Hungama

Kabhi Koi Jo Khulkar Has Liya Do Pal To Hungama
Koi Khwabon Mai Aakar Bs Liya Do Pal To Hungama
Main Usse Dur Tha To Shor Tha Sajish Hain, Sajish Hain
Usey Bahon Mai Khulkar Kas Liya Do Pal To Hungama

Jab Aata Hain Jivan Mai Khayalaton Ka Hungama
Ye Jazbaton, Mulakaton Hasi Raton Ka Hungama
Jawani Ke Kayamat Daur Mai Ye Sochte Hai Sab
Ye Hungame Ki Ratein Hai Ya Hai Raton Ka Hungama

Kalam Ko Khun Mai Khud Ke Dubota Hun To Hungama
Gireban Apna Aasun Mai Bhigota Hun To Hungama
Nahi Mujh Par Bhi Jo Khud Ki Khabar, Wo Hai Zaamane Par
Main Hasta Hun To Hungama, Main Rota Hun To Hungama

Ibarat Se Gunahon Tak Ki Manjil Mai Hain Hungama
Zara Si Pe Ke Aaye Bus To Mehfil Main Hai Hungama
Kabhi Bachpan, Jawani Aur Budhape Mai Hai Hungama
Jehan Main Hain Kabhi To Fir Kabhi Dil Mai Hain Hungama

– Kumar Vishwas

 

Kumar vishwas की ये अनुपम रचना आपको कैसे लगी कमेंट करके बताएं.