सभी देशो के राष्ट्रीय प्रतिक होते है जो देश की पहचान दिलाते है. हमारे भारत में दस्तावेज, ध्वज, प्रतिक चिन्ह, भजन, देशभक्त,  यादगार इमारते और बहुत सी अन्य चीज़े है जो हमारी राष्ट्रीय प्रतिक के रूप में है. इन प्रतीकों का चुनाव ध्यानपूर्वक किया जाता है ताकि वे एक अच्छे और बेहतर भारत को दर्शा सके। इनका चुनाव भारतीय संस्कृति को दर्शाने और भारतीय संस्कृति को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुचाने के लिये किया जाता है।

आइये! हम जानते है अपने देश के प्रतिको के बारे में

National Symbols of India in Hindi- भारत के राष्ट्रीय प्रतीक हिंदी में :-

राष्ट्रीय प्रतिक:-

राष्ट्रीय प्रतिक सारनाथ के सम्राट अशोक के साम्राज्य से लिया गए है, भारत का राष्ट्रीय प्रतिक शेरो का चिन्ह है जिसे सम्राट अशोक के समय में 272 BCE – 232 BCE में बनाया गया था। इस स्मारक  के उपरी छोर पर चार शेर, हाँथी, घोड़े और बैलो के बने हुए है। लेकिन हमें अधिकारिक कागजो पर केवल सामने के तीन शेर ही दिखाई देते है, जबकि एक शेर धर्म चक्र के पीछे की तरफ भी बना हुआ होता है। शेर को कलात्मक ढंग से कमल से अलग किया गया था। शेरो से बना यह स्मारक अत्यंत सुंदर और मनमोहक  है। 26 जनवरी 1950 को भारत सरकार ने इसे राष्ट्रीय चिन्ह के रूप में स्वीकार किया था. भारत के इस राष्ट्रीय प्रतिक पर देवनागरी लिपि में “सत्यमेव जयते” लिखा हुआ है।

राष्ट्रीय तिरंगा:-

https://desibabu.in/wp-admin/options-general.php?page=ad-inserter.php#tab-2

हमारा राष्ट्रीय तिरंगा केसरिया, सफ़ेद और हरे रंग से बना है केसरिया, सफ़ेद और हरे रंग से बना हुआ है. यह आयताकार आकार में है. तिरंगे के तीनो रंग अलग-अलग बातो और गुणों के प्रतिक है। जैसे केसरिया रंग हिम्मत और बलिदान का प्रतिक माना जाता है जबकि सफ़ेद रंग शुद्धता का प्रतिक माना जाता है। जबकि हरा रंग भारत के उपजाऊपन का प्रतिक है. तिरंगे की सफ़ेद रंग की पट्टी के बीच में 24 तीलियों का एक चक्र जिसे धर्म चक्र भी कहते है. यह चक्र नील रंग का है.

राष्ट्रीय नदी;-

गंगा भारत की सबसे पवित्र नदी है. यह लम्बी और विशाल नदी है इस नदी की घाटी पर हमेशा श्रद्धालुओं की भीड़ होती है. इस नदी के पानी से कई पवित्र कार्य पूर्ण किये जाते है.

राष्ट्रीय मुद्रा:-

भारतीय रुपये (ISO कोड : INR) भारतीय गणराज्य की मुद्रा है। भारतीय रुपये का चिन्ह देवनागरी व्यंजन “र” और लैटिन शब्द “R” है जिसे 2010 में अपनाया गया था।

राष्ट्रीय केलेंडर:-

सका एरा पर आधारित कैलेंडर को 22 मार्च 1957 को राष्ट्रीय कैलेंडर घोषित किया गया. भारतीय राष्ट्रीय कैलेंडर की तारीख भी ग्रेगोरियन कैलेंडर की तारीखों की तरह ही थी। इस केलेंडर के अनुसार साल में 365 दिन होते है.

राष्ट्रीय पक्षी:-

हमारे भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर है. 1963 को, मोर को राष्ट्रीय पक्षी के रूप में घोषित किया गया था. मोर को सुन्दरता और इनायत का प्रतिक भी माना जाता है। भारत के अलावा और किसी भी दुसरे देश का राष्ट्रिय पक्षी मोर नही है। इसी वजह से ही मोर को राष्ट्रिय पक्षी घोषित किया गया था।

राष्ट्रीय फूल:-

कमल हमारा राष्ट्रीय फूल है. इस फूल को हस्यवाद, फलदायकता, समृद्धि, ज्ञान और ज्ञानोदय का प्रतिक माना जाता है। ऐसा माना जाता है की कमल से ही भारत की परंपरा, भारत का इतिहास और भारतीय संस्कृति जुडी हुई है। सुंदर और मनमोहक कमल का फुल भारत की संस्कृति को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलवाता है।

राष्ट्रीय खेल:-

भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है.1928 से 1956 तक का समय हॉकी का युग था। भारत को ओलंपिक्स में लगातार 6 मेडल मिले थे। उस समय भारत ने 24 ओलंपिक्स मैच खेले थे और सभी में भारत को जीत मिली थी। इसीलिए भारत में हॉकी को ही राष्ट्रीय खेल घोषित किया गया था।

राष्ट्रीय वृक्ष:-

बरगद के पेड़ को राष्ट्रीय वृक्ष घोषित किया गया. इस पेड़ का जीवनकाल भी काफी लंबा होता है और इसकी टहनियाँ काफी फैली हुई होती है। भारतीय लोग इस पेड़ को पूजते भी है। बरगद के पेड़ से जुडी बहुत सी इतिहासिक कहानियाँ भी है।

राष्ट्रीय फल:-

आम भारत का राष्ट्रीय फल है। आम को फलो का राजा कहा जाता है. प्रसिद्ध भारतीय कवी कालिदास ने भी अपनी कविताओ में अपनी भाषा में आम की तारीफ कर उसका उपयोग किया है.

भारत का राष्ट्रगान:-

भारत का राष्ट्रगान जन गन मन है. इस राष्ट्रगान को रविंद्रनाथ टैगोर ने बंगाली में लिखा है। 24 जनवरी 1950 को इसे अधिकारिक रूप से राष्ट्रगान घोषित किया था। 27 दिसम्बर 1911 को कलकत्ता में, पहली बार राष्ट्रगान  कांग्रेस के सेशन में गाया गया था।

राष्ट्रीय प्रतिज्ञा:-

अपने देश के गणराज्य कावचन देना ही भारतीय राष्ट्रीय प्रतिज्ञा है। राष्ट्रीय प्रतिज्ञा सामाजिक सभाओ, असेंबली, भारतीय स्कूलो में, स्वतंत्रता दिवस पर और गणतंत्र दिवस पर ली जाती है.

राष्ट्रीय पशु:-

रॉयल बंगाल टाइगर को भारत के राष्ट्रीय पशु के रूप में स्वीकार किया गया. यह ज्यादातर मैन्ग्रोव के जंगलो में पाये जाते है। टाइगर समृद्धि, क्षमता, प्रबलता और विशाल शक्ति का प्रतिक है।

मैने आपके साथ ‘National Symbols of India in Hindi- भारत के राष्ट्रीय प्रतीक हिंदी में’ की जानकरी साझा की है. आपको यह पोस्ट कैसी लगी। कृपया हमे कमेंट करके जरूर बताये।