इन्सान ज़िन्दगी में सिर्फ एक बार ही मोहब्बत करता है ….
बाकी की मोहबत्तें वो पहली मोहब्बत भुलाने के लिए करता है


किसी को प्यार करना और उसी से प्यार पाना
बहुत कम लोगों को नसीब होता है….


तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है,
पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है..!!


ये झूठ है की मुहब्बत किसी का दिल तोड़ती है,
लोग खुद ही टूट जाते है मुहब्बत करते करते…!!



99 % यकीन था मुझे कि तू मेरी न होगी ….
बस उस 1 % ने मुझे किसी और का ना होने दिया।


दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझ से मिलने के
न दिल ठहरता है न इंतज़ार रुकता है …

https://desibabu.in/wp-admin/options-general.php?page=ad-inserter.php#tab-2


बहुत खूबसूरत है ना वहम ये मेरा …
कि तुम जहाँ भी हो सिर्फ मेरे हो…


तुम से बिछड के फर्क बस इतना हुआ …
तेरा गया कुछ नहीँ और मेरा रहा कुछ नहीँ…!


इश्क ना होने के सिर्फ दो ही तरीके थे,
या दिल ना होता या तुम ना होते…


चलो अब जाने भी दो,क्या करोगे दास्तां सुनकर…
खामोशी तुम समझोगी नहीं,और बयां हमसे होगी नहीं…!!!


युं तो गलत नही होते अंदाज चहेरों के..लेकिन लोग,
वैसे भी नहीं होते जैसे नजर आते है..


हर सिग्नल तेरी याद दिलाता है,
तूने भी रंग कुछ इसी तरह बदला था…!


लिखना तो ये था कि खुश हूँ तेरे बगैर भी.
पर कलम से पहले आँसू कागज़ पर गिर गया.


हम रूठे दिलों को मनाने में रह गए;
गैरों को अपना दर्द सुनाने में रह गए;
मंज़िल हमारी, हमारे करीब से गुज़र गयी;
हम दूसरों को रास्ता दिखाने में रह गए।



दिल से खेलना तो हमे भी आता है… लेकिन जिस खैल मे
खिलौना टुट जाए वो खेल हमे पसंद नही..