Relationship

ब्रेकअप के दर्द से कैसे उबरे (टीनएजर के लिए बेस्ट 5 टिप्‍स)

tips on handling break ups for teenagers in hindi

आपको कब प्यार हो जाए और कोई किसी से कितना प्यार कर सकता है, यह दोनों कोई नहीं बता सकता क्योंकि ना तो प्यार में उम्र देखी जाती है और ना ही इसकी कोई सीमा होती है. प्यार करने के लिए आप कोई निश्चित समय नहीं सेट कर सकते. किशोरावस्था में भी प्यार हो सकता है. मैच्योर लोग लव ब्रेकअप्स को हैंडल कर लेते हैं लेकिन जब कोई किशोरावस्था में होता है तब इन चीजों को हैंडल करना थोड़ा सा कठिन होता है.

यदि आप स्वयं एक टीनेजर है और आप अभी अभी ब्रेकअप हुआ है जिसके कारण आप अपने इमोशंस को संभाल नहीं पा रहे हैं या फिर आपके किसी फ्रेंड या आपके अपने बच्चे के साथ ऐसी प्रॉब्लम आ रही है तो आप नीचे दी गई टिप्स को फॉलो करते हुए उन्हें इस अवस्था से बाहर निकाल सकते हैं.

लव ब्रेकअप्स के कुछ कॉमन लक्षण होते हैं जैसे कि चिड़चिड़ापन, भूख न लगना, किसी से बात ना करना, किसी काम में मन ना लगना, अचानक स्वभाव में परिवर्तन, डिप्रेशन में चले जाना, आदि लक्षण लव ब्रेकअप्स के बाद में देखे जाते हैं. ऐसी स्थिति से सबसे ज्यादा पैरेंट सबसे ज्यादा परेशान होते हैं. आप निम्न टिप्स को अपनाकर अपने बच्चे को इस परेशानी से निजात दिला सकते हैं.

1. बातचीत करें

आजकल पैरेंट्स और बच्चों में बहुत ज्यादा कम्युनिकेशन गैप आ गया है. माता-पिता अपने काम के कारण बच्चों को पूरा समय नहीं दे पाते हैं जिसके कारण बच्चे अपनी सारी बातें अपने मित्रों को तो बता देते हैं लेकिन अपने माता-पिता से कहने में कतराते हैं. अपने बच्चे से बात करने की कोशिश करें. उन्हें यह एहसास दिलाए की उनकी परेशानी से आपको भी बहुत फर्क पड़ता है. उनसे असल समस्या के बारे में जानने की कोशिश करें और उन्हें प्यार और आकर्षण में अंतर बताएं. उन्हें इस बात के लिए कन्वेंस करें की इन बातों को दिल से नहीं लगाते हैं. इस ऐज में यह सभी के साथ होता है.

2. पढ़ने के लिए प्रेरित करें

किशोरावस्था में अक्सर बच्चे प्यार के कारण पढ़ाई से दूर हो जाते हैं. आपको उन्हें प्यार से समझाना चाहिए कि पढ़ाई उनके लिए कितनी जरूरी है. पढ़ाई से ही उनका करियर बन सकता है. उन्हें बताएं कि कैसे पढ़ाई पर फोकस करके वह इस स्थिति से उभर सकते हैं.

3. दोस्तों से मिलवाएं

जैसा कि मैंने आपको बताया कि कई बार बच्चे अपने माता पिता के साथ बात करें में इतने कंफर्टेबल नहीं होते जितन आसानी से वे दोस्तों को सब कुछ बता देते हैं. आपके द्वारा कोशिश करने से बात नहीं बन रही है तो आप अपने बच्चे के किसी घनिष्ठ मित्र को बुलाकर उनके सामने बात करें. आपका बच्चा किस वजह से परेशान हैं यह जान ही कोशिश करें. अपने बच्चे को दोस्तों के साथ कुछ समय बिताने के लिए कहें जिससे कि वह पुरानी बातें भूल सके.

4. Hobby में involve करे

सभी लोगों को कुछ ऐसी चीजें पसंद होती हैं जिन्हें करना उन्हें हमेशा अच्छा लगता है. आप अपने बच्चे की hobbies भी जानते होंगे. आप उन्हें hobbies के साथ समय व्यतीत करने के लिए कहें. उन्हें चाहे पेंटिंग करना पसंद हो या सिंगिंग या ड्राइंग या फिर कुछ और. जो भी उन्हें पसंद हो उसे करने के लिए उन्हें प्रेरित करें. ऐसा करके वे अच्छा महसूस करेंगे.

5. फेवरेट डिश खिलाएं

कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनका मूड अपनी फेवरेट डिश खाने के बाद एकदम से ठीक हो जाता है. यदि आपके बच्चे के साथ भी ऐसा ही है तो आप उन्हें उनकी मनपसंद डिश बनाकर खिला सकते हैं और बातों ही बातों में उनसे असल समस्या के बारे में जान सकते हैं.