Biography

Biography of Kanhaiya Kumar in Hindi | कन्हैया कुमार की जीवनी

कन्हैया कुमार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। साथ ही वह  आल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) के नेता भी है, जो एक वामपंथी छात्र संगठन है| जिसे कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) का पार्ट माना जाता है।  2019 में, उन्होंने डॉक्टर की उपाधि (पीएचडी) प्राप्त की,जिसे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया का हिस्सा माना जाता है। २०१६ को , उन्हें दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था|

व्यक्तिगत जीवन :-

कन्हैया कुमार का जन्म जनवरी, 1987 को बरौनी, बेगुसराई, बिहार में हुआ था| उनके पिता का नाम जय शंकर सिंह है, वह किसान थे, इनके पिता को फालिज अटैक आ गया था जिसके कारण अब वो उठने बैठने में असमर्थ थे| बिहार के बेगूसराय अस्पताल में उनका का निधन हो गया था। उनकी माता का नाम मीना देवी है, वह आंगनवाड़ी में काम करती हैं| उनके दो भाई है मणिकांत सिंह, वह असम की एक कम्पनी में सुपरवाइजर हैं और प्रिन्स सिंह है उनके परिवार के सदस्य पारंपरिक रूप से सीपीआई के समर्थक रहे हैं। कन्हैया कुमार ने R. K. C. हाई स्कूल, बरौनी में शिक्षा ली| उन्होंने स्कूल में कई प्रकार की प्रतियोगिताओ में भाग लिया है| इंडियन पीपल’स थिएटर एसोसिएशन के द्वारा, उन्होंने थिएटर में भी भाग लिया| उसके बाद, उन्होंने स्नातक कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स, पटना से पूर्ण की. 2019 में, उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अफ्रीकी अध्ययन में पीएचडी पूरी की।

करियर :-

कॉलेज ऑफ कॉमर्स में रहते हुए, उन्होंने छात्र राजनीति में अपनी भागीदारी शुरू की। 2015 में, कन्हैया कुमार ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन सदस्य बने। उन्होंने इस पद के लिए एआईएसए, एबीवीपी, एसएफआई और एनएसयूआई के सदस्यों को हराया। 2011 में जेएनयू प्रवेश परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल करने के बाद, वह  जेएनयू में शामिल हो गए। 2015 सितंबर में, कन्हैया कुमार जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष बनने वाले पहले एआईएसएफ सदस्य बने। वह AISA (ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन), ABVP (अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद), SFI (स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया) और NSUI को हराकर नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया) के उम्मीदवार बने। कन्हैया कुमार के दोस्त और अन्य लोग उन्हें बेहतरीन वक्ता कहते हैं। उनके चुनाव के एक दिन पहले दी गई उनकी स्पीच उनके चुनाव जीतने का कारण मानी जाती है। 2016 में , उनकी आत्मकथा ‘बिहार टू तिहाड़: माई पॉलिटिकल जर्नी’ प्रकाशित हुई थी। 29 अप्रैल 2018 को, उन्हें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) की 125 सदस्यीय पार्टी राष्ट्रीय परिषद के लिए चुना गया।

2019 लोकसभा चुनाव- उनका मुकाबला बेगूसराय (सीपीआई) से होगा| उन्होंने अपनी चुनावी भागीदारी की सहायता के लिए एक क्राउडफंडिंग अभियान भी शुरू किया है।

वाद – विवाद :-

12 फरवरी 2016 को, कन्हैया कुमार को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसके खिलाफ 13 फरवरी को भारतीय दंड संहिता की धारा 124-ए (देशद्रोह) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत मामला दर्ज किया गया था। उन पर जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में कुछ छात्रों द्वारा संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के खिलाफ आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान भारतीय जनता पार्टी के सांसद महेश गिरी और एबीवीपी द्वारा भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों की शिकायत पर आरोप लगाया गया था। कन्हैया कुमार ने आरोपों से इनकार किया और कहा कि वह न तो किसी नारे को चिल्ला रहे थे और न ही देश की अखंडता के खिलाफ कुछ कह रहे थे। कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी जल्द ही एक बड़े राजनीतिक विवाद में घिर गई और उसने विपक्षी दलों, शिक्षकों, छात्रों और शिक्षाविदों की तीखी प्रतिक्रियाएँ व्यक्त कीं।

कन्हैया कुमार के माता-पिता ने कहा है कि उनके बेटे को हिंदुत्व की राजनीति के लिए विरोध का शिकार होना पड़ा। 2 मार्च 2016 को, कुमार को दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा 6 महीने के लिए अंतरिम जमानत दी गई, 10,000 रुपये के जमानत बांड पर सशर्त और एक वचन दिया गया कि वह “किसी भी देश विरोधी गतिविधि में भाग नहीं लेंगे।” 3 मार्च 2016 को, कन्हैया कुमार ने जेएनयू परिसर में एक  सभागार में भाषण दिया, जिसके दौरान उन्होंने कहा कि वह भारत से स्वतंत्रता नहीं, बल्कि भारत के भीतर स्वतंत्रता चाहते हैं।

भारतीय सेना द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाने वाले बयान:-

8 मार्च 2016 को, उन्होंने भारतीय सेना के कर्मियों द्वारा किए गए कश्मीरी महिलाओं के बलात्कार का उल्लेख किया। उन्होंने कहा है; “आप चाहे जितना भी हमें रोकने की कोशिश करें, हम मानवाधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ बोलेंगे। जबकि हमारे सैनिकों के लिए हमारे मन में बहुत सम्मान है। हम अब भी कश्मीर में महिलाओं के बारे में बात करेंगे।” सुरक्षाकर्मियों द्वारा बलात्कार किया जाता है। ” इस भाषण की भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) द्वारा “राष्ट्र-विरोधी” होने के कारण आलोचना की गई|

महिला छात्रा को धमकाया:-

10 मार्च 2016 को, पूर्व JNU छात्र कमलेश नरवाना ने 16 अक्टूबर 2015 को विश्वविद्यालय के एक आदेश का अनावरण किया, जिसके अनुसार, कन्हैया कुमार को पिछले साल जेएनयू प्रशासन ने एक छात्रा के साथ “दुर्व्यवहार” करने और उसे “धमकाने” के लिए जुर्माना लगाया था।

अन्य जानकारी:-

नाम कन्हैया कुमार
व्यवसाय विधार्थी, कार्यकर्ता, राजनीतिज्ञ
आयु 31 वर्ष (2019 के अनुसार)
ऊचाई इंच में 5’6
भार 60 किलोग्राम
आखो का रंग काला
बालो का रंग काला
जन्मतिथि जनवरी, 1987
जन्म स्थान बेगुसराई, बिहार
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिन्दू धर्म
गृहनगर बरौनी, बेगुसराई, बिहार
विद्यालय R. K. C. हाई स्कूल, बरौनी, राम रतन सिंह कॉलेज, मोकामा
विश्वविद्यालय कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स पटना बिहार, नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी, जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी
शैक्षिक योग्यता B.A, M.A., पीएचडी अफ्रीकन स्टडीज
पिता का नाम जय शंकर सिंह (किसान)
माता का नाम मीना देवी
बहन का नाम कोई नही
भाई का नाम प्रिंस कुमार, मणिकांत सिंह
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
शौक थिएटर करना और वाद-विवाद जैसी गतिविधियों  में भाग लेना
पसंदीदा अभिनेता पता नही
पसंदीदा अभिनेत्री पता नही
पसंदीदा भोजन भारतीय भोजन
पसंदीदा कलर सफ़ेद
नेट वर्थ पता नही

मैने आपके साथ “कन्हैया कुमार की जीवनी” साझा की है आपको यह पोस्ट किसी लगी। कृपया हमे कमेंट करके जरूर बताये।