Hindi Quotes

अमिताभ बच्चन के कालजयी विचार ~ Amitabh Bachchan Quotes in Hindi

हम आपके लिए लाये हैं “Amitabh Bachchan Quotes in Hindi” आशा करता हूँ की ये आपको पसंद आएँगी

Amitabh Bachchan Quotes in Hindi
Amitabh Bachchan Quotes in Hindi

ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो मुझे लगता है कि मैंने कई चीजें मिस कर दी हैं.


“आपने जेल की दीवारों और जंजीरों का लोहा देखा है, जेलर साहब, कालिया की हिम्मत का फौलाद नहीं देखा.”-कालिया (इन्दर राज आनंद )


मैं अपनी ज़िन्दगी जितना संभव हो उतने स्वाभाविक और सामान्य तरीके से व्यतीत कर सकता हूँ करता हूँ. लेकिन अगर दिन रात विवाद मेरे पीछे पड़े रहें तो मैं इसका कुछ नहीं कर सकता. मुझे कभी-कभी आश्चर्य होता है कि वे किस तरह ये सब करते हैं. मैं दाढ़ी बढ़ता हूँ और वह टाइम्स ऑफ़ इंडिया के सम्पादकीय में आ जाता है.


“ये देखो ये वही मैं हूँ और ये वही तुम. आज मैं कहाँ पहुच गया हूँ और तुम कहाँ हो. आज मेरे पास बिल्डिंगें हैं, गाडी है, बैंक बैलेंस है…. तुम्हारे पास क्या है…. क्या है तुम्हारे पास!!” – दीवार (जावेद अख्तर )


मैं जिन चीजों से गुजरा हूँ और जिस असाधारण तरीके से मेरे शरीर ने प्रतिक्रिया की वह अद्भुत है. आश्चर्य नहीं की मैं धार्मिक हो गया, क्योंकि आप नहीं जानते कि आपके साथ कुछ चीजें क्यों हो रही हैं और आपको नहीं पता की आप कैसे बाउंस बैक करते हैं.


मैं कभी एक सुपरस्टार नहीं रहा और कभी इसमें यकीन नहीं किया.


प्रिय टीवी मीडिया और मेरे घर के बाहर खड़ी वैन्स, कृपया इतना तनाव मत लीजिये और इतनी कड़ी मेहनत मत कीजिये.


“ये टेलीफोन भी अजीब चीज़ है — आदमी सोचता कुछ है, बोलता कुछ है और करता कुछ है.”-अग्निपथ (कादर खान )


“गोवर्धन सेठ, समुन्दर में तैरने वाले कुओं और तालाबों में डुबकी नहीं लगाया करते हैं.”-मुक़द्दर का सिकंदर (कादर खान)


“क्या देखता है”…आइं….


असल में मैं बस एक अभिनेता हूँ जो अपने काम से प्यार करता है और उम्र के बारे में ये सब बातें केवल मीडिया में पनपती हैं.


“और आप, Mr R K Gupta, आप मेरे नाजायज़ बाप हैं. मेरी माँ को आप से चाहे ज़िल्लत और बेईज्ज़ती के सिवा कुछ ना मिला हो, लेकिन मैं अपनी माँ, उसी शांति कि तरफ से आपकी सारी दौलत वापस लौटा रहा हूँ. आज आप के पास आपकी सारी दौलत सही, सब कुछ सही, लेकिन मैंने आप से ज्यादा गरीब आदमी आज तक नहीं देखा. गुड बाय, Mr R K Gupta.”- –त्रिशूल (जावेद अख्तर )


“ये तुम्हारे बाप का घर नहीं, पुलिस स्टेशन है, इस लिए सीधी तरह खड़े रहो.”जंजीर ( सलीम- जावेद )


“जिसने पचीस साल से अपनी माँ को थोडा थोडा मरते देखा हो, उसे मौत का क्या डर ?”-त्रिशूल (जावेद अख्तर )


मुझे ऐश्वर्या के साथ रोमांस करने में ख़ुशी होगी. लेकिन मैं अट्ठावन साल का हूँ. इसलिए मुझे उनका पिता बनना होगा.


“घड़ी – घड़ी ड्रामा करता है, साला.”- शोले (जावेद अख्तर)


“सौदा करना तो आपको नहीं आता, आप इस बिल्डिंग के लिए दस लाख भी ज्यादा मांग लेते, तो भी मैं खरीद लेता. यह बिल्डिंग मेरी माँ के लिए एक तोहफा है.” – दीवार (जावेद अख्तर )


मैंने बोफोर्स की वजह से राजनीति नहीं छोड़ी. मैंने राजनीती इसलिए छोड़ी क्योंकि मैं तुच्छ राजनीतिक खेल खेलना नहीं खेलना नहीं जानता. मैं तब भी नहीं जानता था और अब भी नहीं जानता हूँ.


हर किसी को स्वीकार करना चाहिए कि हमारी उम्र बढ़ेगी और उम्र का बढ़ना हमेशा प्रशंशापूर्ण नहीं होता.


“रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह.”- शहेंशाह ( इन्दर राज )


“वक़्त कि बिसात पे किस्मत ने जो मोहरे बिछाए थे, उनका रुख पलट गया.”-कालिया (इन्दर राज आनंद आनंद)


“मूछें हों तो नथ्थूलाल जैसी वरना ना हो.” – शराबी ( कादर खान )


“बचपन से है सर पर अल्लाह का हाथ, और अल्लाह रखा है मेरे साथ, बाजू पर है सात सौ छियासी का बिल्ला, बीस नंबर की बीडी पीता हूँ, काम करता हूँ कुली का और नाम है इकबाल.”- कुली (कादर खान )


मैं किसी तकनीक का प्रयोग नहीं करता; मैं अभिनय करने के लिए प्रशिक्षित नहीं किया गया. मैं बस फिल्मो में काम करना पसंद करता हूँ.


हमारी कहानियों के स्वरुप की वजह से से भारतीय अभिनेताओं को अच्छा अभिनय आना ज़रूरी है, और उन्हें भावनात्मक दृश्यों, थोड़ी कोमेडी, नाचना- गाना, एक्शन आना चाहिए, क्योंकि ये सब एक ही फिल्म का हिस्सा होते हैं. मैं कहूँगा कि कई मायनो होलीवुड अभिनेताओं की तुलना में भारतीय अभिनेताओं से अधिक अपेक्षा होती है.


“तुम्हारा नाम क्या है, बसंती ?”- शोले (जावेद अख्तर)


यह एक रणक्षेत्र है, मेरा शरीर, जिसने बहुत कुछ सहा है.


“मैं पांच लाख का सौदा करने आया हूँ, और मेरे जेब में पांच फूटी कौड़ी भी नहीं है! “-त्रिशूल (जावेद अख्तर )


“हम जहाँ पे खड़े हो जाते हैं, लाइन वहीँ से शुरू होती है.”-कालिया (इन्दर राज आनंद )


“आज खुश तो बहुत होगे तुम…..जो आज तक तुम्हारे मंदिर की सीढियां नहीं चढ़ा ….जिसने कभी तुम्हारे सामने हाथ नहीं जोड़े वो आज तुम्हारे सामने हाथ फैलाये खड़ा है…….ये तुम्हारी जीत नहीं हार है हार……हम घर से बेघर हो गए……मेरा बाप जीतेजी मर गया…..मेरी माँ सुहागन होते हुए भी विधवा बनी रही….लेकिन आज तक मैंने तुमसे कुछ नहीं माँगा….” – दीवार (जावेद अख्तर )


सच कहूँ तो मैं कभी ‘आइकन’, ‘सुपरस्टार’, इत्यदि विश्लेषणों के चक्कर में नहीं पड़ा. मैं हमेशा खुद को एक अभिनेता के रूप में देखता हूँ जो अपनी काबीलियत के अनुसार जितना अच्छा कर सकता है कर रहा है.


“सही बात को सही वक़्त पे किया जाये तो उसका मज़ा ही कुछ और है, और मैं सही वक़्त का इंतज़ार करता हूँ.”-त्रिशूल (जावेद अख्तर )


मैं कभी भी अपने कैरियर को लेकर आश्वस्त नहीं रहा हूँ.


“हाँ, मैं साइन करूंगा, लेकिन मैं अकेले साइन नहीं करूंगा, मैं सबसे पहले साइन नहीं करूंगा.जाओ पहले उस आदमी का साइन ले के आओ, जिसने मेरा बाप को चोर कहा था ; पहले उस आदमी का साइन ले के आओ जिसने मेरी माँ को गाली दे के नौकरी से निकल दिया था ; पहले उस आदमी का साइन ले के आओ जिसने मेरे हाथ पे ये लिख दिया था… उसके बाद, उस के बाद, मेरे भाई, तुम जहाँ कहोगे मैं वहां साइन करदूंगा .” – दीवार (जावेद अख्तर )


जो थोड़े-बहुत लोग यथार्थवादी सिनेमा बनाते हैं, जो ऐसा सिनेमा बनाते हैं जो शायद पश्चिमी दर्शकों को अधिक स्वीकार्य है, वे बहुत कम हैं.


मुझे कभी-कभी इस तथ्य से दुःख होता है कि मेरे पास एक पूर्ण और निरोग शरीर नहीं है.


“…विजय चौहान, पूरा नाम विजय दीनानाथ चौहान, बाप का नाम, दीनानाथ चौहान, माँ का नाम, सुहासिनी चौहान, गाँव मांडवा , उम्र छत्तीस साल नौ महिना…8 दिन..16 घंटा चालू है….मालूम!-अग्निपथ (कादर खान )

More Quotes for You:

Imp: I wish you loved “Amitabh Bachchan Quotes in Hindi” If you want to read more like “Amitabh Bachchan Quotes in Hindi” then please like our facebook page and subscribe to kamkibate.