शायरी

“बेवफ़ा शायरी हिंदी में” (Bewafa Shayari in Hindi)

जब कोई प्यार में दगा कर जाता है उसे अक्सर लोग बेवफ़ा कहते है. कहते है न पासे कब पलट जाते है पता नही चलता! जो इंसान हमारे साथ जीने-मरने की कसमे खाता है और एक वक़्त आता है जब वह हमारा हाल तक नही पूछता है. आज हम आपके लेकर आये है “बेवफ़ा शायरी हिंदी में” (Bewafa Shayari in Hindi). इन शायरियो को आप अपने प्रेमी के साथ साझा कर सकते है.

“बेवफ़ा शायरी हिंदी में” (Bewafa Shayari in Hindi)

1.बहुत अजीब हैं ये मोहब्बत करने वाले,

बेवफाई करो तो रोते हैं और वफा करो तो रुलाते हैं।

 

2.यूँ है सबकुछ मेरे पास बस दवा-ए-दिल नही,

दूर वो मुझसे है पर मैं उस से नाराज नहीं,

मालूम है अब भी मोहब्बत करता है वो मुझसे,

वो थोड़ा सा जिद्दी है लेकिन बेवफा नहीं।

 

3.रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो,

मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गनाह।

 

4.हमारी तबियत भी न जान सके हमे बेहाल देखकर,

और हम कुछ न बता सके उन्हें खुशहाल देखकर।

 

5.मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम,

हमने हर दम बेवफाई पायी है,

मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,

हमने हर चोट दिल पे खायी है।

 

6.उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद,

अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद,

क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया,

यहाँ लोग भूल जाते हैं किसी को दफनाने के बाद।

 

6.बेवफ़ाओं की महफ़िल लगेगी ऐ दिल-ए-जाना,

आज ज़रा वक़्त पर आना मेहमान-ए-ख़ास हो तुम।

 

7.कहाँ से लाऊं वो शब्द जो तेरी तारीफ के क़ाबिल हो,

कहाँ से लाऊं वो चाँद जिसमें तेरी ख़ूबसूरती शामिल हो,

ए मेरे बेवफा सनम एक बार बता दे मुझकों,

कहाँ से लाऊं वो किस्मत जिसमें तू बस मुझे हांसिल हो।

 

8.गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती,

सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती,

मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त,

प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।

 

9.मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा

जिन्हे दावा था वफा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा.

 

10.तुम समझ लेना बेवफा मुझको, मै तुम्हे मगरूर मान लूँगा

ये वजह अच्छी होगी , एक दूसरे को भूल जाने के लिये .

 

11.कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,

कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,

बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,

आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी

 

12.मैंने भी किसी से प्यार किया था

उनकी रहो में इंतजार किया था

हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें

कसूर उनका नहीं मेरा ही था

जो एक बेवफा से प्यार किया था !!

 

13.अरे बेपनाह मोहब्बत की थी हमने तुझसे ओ बेवफा !

तुझे दुःख दूं ये न होगा कभी खुद मर जाऊं  यहीं ठीक है !!

 

14.क्यों जिंदगी इस तरह तुम दूर हो गए

क्या बात है जो इस तरह मगरूर हो गए।

हम तरसते रहे तुम्हारा प्यार पाने को

बेवफा बनकर तुम तो मशहूर हो गए।।

 

15.हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,

औरों को तो ठीक पर हम को भी तबाह किया,

अर्ज़ किया जब ग़ज़लों मे उनकी बेवफ़ाई को तो,

औरों ने तो ठीक उन्होने भी वा वा किया.

 

16.आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए !

महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए !

करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो !

पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए !!

 

17.इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है !

खामोशियो की आदत हो गयी है !

न सीकवा रहा न शिकायत किसी से अगर है तो !

एक मोहब्बत जो इन तन्हाइयों से हो गई है !!

 

18.वो निकल गए मेरे रास्ते से इस कदर कि,

जैसे कि वो मुझे पहचानते ही नहीं,

कितने ज़ख्म खाए हैं मेरे इस दिल ने,

फिर भी हम उस बेवफ़ा को बेवफ़ा मानते ही नहीं।

 

19.हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है,

हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है,

तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग,

हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

 

20.न पूछ मेरे सब्र की इन्तहां कहाँ तक है,

तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है,

वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,

हमे तो देखना है तू बेवफा कहाँ तक है।

मैने आपके साथ “बेवफ़ा शायरी हिंदी में” (Bewafa Shayari in Hindi) साझा की है. आपको यह पोस्ट कैसी लगी, अपने विचार हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताये.