HomeBiography

“राजीव गाँधी की जीवनी”(Biography of Rajiv Gandhi in Hindi)

“राजीव गाँधी की जीवनी”(Biography of Rajiv Gandhi in Hindi)
Like Tweet Pin it Share Share Email

राजीव गाँधी एक भारतीय राजनीतिज्ञ थे. वह 40 वर्ष की आयु में सबसे कम उम्र में भारत के प्रधानमंत्री बनें. 1980 में एक हवाई जहाज दुर्घटना में उनके संजय की मृत्यु के बाद, राजीव गांधी ने इंदिरा के कहने पर अनिच्छा से राजनीति में प्रवेश किया था। 1980 में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे. उन्होंने अपने भाई की संसदीय सीट अमेठी जीती और लोकसभा के सदस्य बने. राजीव को कांग्रेस पार्टी का महासचिव बनाया गया और 1982 के एशियाई खेलों के आयोजन में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई।1984 में, इंदिरा गांधी की हत्या के बाद, जनता ने राजीव गांधी को भारी बहुमत के साथ प्रधानमंत्री बनाया। इन्होने अपने कार्यकाल में कई नेक काम किये. उन्होंने भारत देश को आधुनिकता की ओर अग्रसर किया. लेकिन 1987 के मध्य में बोफोर्स घोटाले ने, उनकी भ्रष्टाचार मुक्त छवि को नुकसान पहुंचाया और परिणामस्वरूप 1989 के चुनाव में उनकी पार्टी को बड़ी हार मिली। 1991 में चुनावों तक, वह कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। चुनावों के प्रचार के दौरान, लिट्टे के एक आत्मघाती हमलावर ने उनकी हत्या कर दी। 1998 में, उनकी पत्नी सोनिया गाँधी कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष बनीं और 2004 और 2009 के संसदीय चुनावों में पार्टी को जीत दिलाई। वर्तमान में, उनके बेटे राहुल गांधी संसद सदस्य और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। 1991 में, राजीव गाँधी की मृत्यु के पश्चात्, भारत सरकार ने उन्हें को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया।

व्यक्तिगत जीवन:-

राजीव गाँधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को बॉम्बे, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत में हुआ था. उनके पिता का नाम फ़िरोज़ गाँधी था, वह भारत के पूर्व राजनीतिज्ञ थे. उनकी माता का इंदिरा गाँधी था, उनकी छवि को भारत में कोन नही जनता. वह पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ थी. राजीव गाँधी के एक भाई था जिनका नाम संजय गाँधी था, वह भी पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ और प्रशिक्षित पायलट थे लेकिन 1980 में उनकी एक हवाई जहाज दुर्घटना में मौत हो गयी थी. कुछ निजी कारण से, फ़िरोज़ गाँधी और इंदिरा गाँधी अलग हो गये थे. उसके बाद, इंदिरा गाँधी अपने पिता जवाहर लाल नेहरु के घर रहने लगी और उन्होंने राजनीती के पथ पर चलने का फैसला किया. राजीव गाँधी ने अपनी शुरूआती पढाई शिव निकेतन स्कूल से पूर्ण की. ऐसा कहा जाता है की उनके स्कूल के शिक्षक कहते थे की राजीव शर्मीले और अंतर्मुखी थे और उन्हें “पेंटिंग और ड्राइंग का बहुत शौक था. फिर उन्होंने आगे की पढाई वेलहम बॉयज़ स्कूल, देहरादून से की. 1961 में, उन्हें ए-स्तर का अध्ययन करने के लिए लंदन भेजा गया था। उसके बाद, उन्होंने ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज में इंजीनियरिंग की पढ़ाई की, लेकिन डिग्री हासिल नहीं की। 1966 में, उन्होंने इंपीरियल कॉलेज लंदन में मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एक कोर्स शुरू किया, लेकिन इसे भी  पूरा नहीं किया। वह वास्तव में पर्याप्त अध्ययनशील नहीं थे. 1966 में, वह भारत वापस लौट आये. उसी साल, इंदिरा गाँधी ने प्रधानमंत्री का पद संभाला था. भारत आने के बाद, वह फ्लाइंग क्लब के सदस्य बने, जहाँ उन्हें एक पायलट के रूप में प्रशिक्षित किया गया। उन्हें राजनीति में शामिल होने में कोई दिलचस्पी नहीं थी, इसलिए 1970 में, वह एयर इंडिया में एक पायलट के रूप में कार्यरत थे.

अगर बात करे राजीव गाँधी की लव लाइफ की तो उन्होंने एन्टोनिया माईनो से शादी की. एन्टोनिया माईनो और राजीव गाँधी की मुलाकात कॉम्ब्रिज पढाई के दौरान थी. वह दोनों तीन साल तक प्रेमबंधन में थे और फिर विवाह के बंधन में बंध गये. शादी के बाद, उनकी पत्नी ने नाम बदलकर सोनिया गांधी कर लिया। उनके एक बेटा राहुल गाँधी है, वह संसद सदस्य और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। और एक बेटी प्रियंका गाँधी है वह भी भारतीय राजनीतिज्ञ है. प्रियंका ने व्यापारी रॉबर्ट वाड्रा से शादी की।

करियर:-

राजीव गाँधी को राजनीती से बिलकुल भी लगाव नही था. 23 जून 1980 को, उनके छोटे भाई संजय गांधी की हवाई जहाज दुर्घटना में मौत हो गयी. संजय की मृत्यु के बाद, वह अपनी माता इंदिरा गाँधी के कहने पर राजनीती में शामिल हो गये और वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे. उन्होंने अपने भाई की संसदीय सीट अमेठी जीती और लोकसभा के सदस्य बने. उन्होंने पार्टी की सदस्यता सदस्यता का भुगतान किया और अपना नामांकन पत्र दाखिल किया और अन्य औपचारिकताओं को पूरा किया। उन्होंने लोकदल के उम्मीदवार शरद यादव को 237,000 वोटों के अंतर से हराकर सीट जीत ली। उन्होंने 17 अगस्त को संसद सदस्य के रूप में शपथ ली। उन्हें भारतीय युवा कांग्रेस का प्रभारी बनाया गया। 1982 में, राजीव को एशियाई खेलों की जिम्मेदारी दी गयी जिसमे उन्होंने अपनी संगठनात्मक क्षमता दिखाई। 31 अक्टूबर 1984 को, इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा हत्या कर दी गई. जिसके बाद, देश का माहोल गर्म हो गया था. उनकी माता के निधन के बाद, सारी जिम्मेदारी राजीव के कंधो पर आ गयी थी. वह आधिकारिक रूप से कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बने, उन्होंने भारतीय संसद के इतिहास में सबसे बड़े बहुमत के साथ शानदार जीत हासिल की, जिससे राजीव गांधी को सरकार का पूर्ण नियंत्रण मिला। वह भारत के सबसे युवा प्रधानमंत्री थे। 31 दिसंबर 1984 को, उन्होंने शपथ ली थी.

प्रधानमंत्री बनने के बाद, उन्होंने देश में कई सुधार करने के अथक प्रयास किये. उन्होंने देश की प्रगति में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया. वह भारत में सूचना क्रांति के जनक माने जाते हैं। देश के कंप्यूटराइजेशन और टेलीकम्युनिकेशन क्रांति का श्रेय उन्हें जाता है. उन्होंने भारत की शिक्षा व्यवस्था पर जोर दिया. उन्होंने मतदाता की उम्र 21 वर्ष से कम करके 18 वर्ष तक के युवाओं को चुनाव में वोट देने का अधिकार दिया। उन्होंने स्थानीय स्वराज्य संस्थाओं में महिलाओं के 33% रिजर्वेशन की व्यवस्था की। उन्होंने देश की युवा शक्ति को ज्यादा बढ़ावा दिया उनका मानना था की युवाओ से ही देश का विकास संभव है वह चाहते थे की देश के युवाओ को भरपूर रोजगार मिले इसलिए उन्होंने जवाहर रोजगार योजना प्रारंभ की थी. राजीव गाँधी के कार्यकाल में ही असम, मिजोरम और पंजाब का समझोता हुआ था.

राजीव गाँधी पर गंभीर आरोप:-

राजीव गाँधी पर 64 करोड़ के बोफोर्स घोटाले का आरोप लगा। राजीव गाँधी के वित्त मंत्री, वी. पी. सिंह ने कांग्रेस नेताओं के कब्जे के लिए सरकार और राजनीतिक भ्रष्टाचार के बारे में समझौता करने वाले विवरणों को उजागर किया। घोटाले का पता चलने पर, वी. पी. सिंह को पद से बर्खास्त कर दिया गया और बाद में उन्होंने कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। हिंदू अखबार के नरसिम्हन राम और चित्रा सुब्रमण्यम द्वारा जांच जारी रखने पर बाद में, राजीव गाँधी को व्यक्तिगत रूप से घोटाले में फंसा दिया गया था। जिसके कारण उन्हें प्रधानमन्त्री पद से इस्तीफा देना पड़ा. उसके बाद, उन्होंने विपक्ष में रहकर काम किया. 2004 में, उन्हें मरणोपरांत इस आरोप से मुक्त कर दिया गया था। जब उन्होने संसद में कांग्रेस के प्रचण्ड बहुमत का दुरुपयोग करते हुए सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के उल्टा विधेयक पारित करवा लिया। तब उन पर  शाहबानो प्रकरण में दूसरा बड़ा आरोप लगा। उन पर भोपाल गैस काण्ड के आरोपी वारेन एंडरसन को रिश्वत लेकर देश से भगाने का आरोप भी लगाया गया है।

राजीव गाँधी की मृत्यु:-

21 मई 1991 को चेन्नई में, वह लोकसभा कांग्रेस के उम्मीदवार के लिए प्रचार कर रहे थे उस वक़्त उनकी मानव बम्ब द्वारा हत्या कर दी गयी. दिल्ली में वीर भूमि में, राजीव गांधी का अंतिम संस्कार किया गया था.

अन्य जानकारी:-

नाम राजीव गाँधी
व्यवसाय भारतीय राजनीतिज्ञ
पर्दापण 1980 में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे
राजनितिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी
आयु 46 वर्ष ( 21 मई 1991 के अनुसार)
ऊचाई इंच में 5’10
भार 72 कि.ग्रा.
बालो का रंग काला
आँखों का रंग काला
जन्मतिथि 20 अगस्त 1944
जन्मस्थान बॉम्बे, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिंदुत्व
गृहनगर बॉम्बे, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
स्कूल शिव निकेतन स्कूल, वेल्हम बॉयज स्कूल, देहरादून
विश्वविधालय इम्पीरियल कॉलेज, लंदन

ट्रिनिटी कॉलेज, कॉम्ब्रिज

शैक्षणिक योग्यता प्रशिक्षित पायलट
पिता का नाम स्वर्गीय फिरोज गाँधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
माता का नाम स्वर्गीय इंदिरा गाँधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ)
भाई का नाम स्वर्गीय संजय गाँधी (पूर्व भारतीय राजनीतिज्ञ, प्रशिक्षित पायलट)
बहन का नाम कोई नही
वैवाहिक स्थिति वैवाहिक (लेकिन निधन हो गया)
पत्नी का नाम सोनिया गाँधी
बच्चे बेटा- राहुल गाँधी (भारतीय राजनीतिज्ञ)

बेटी- प्रियंका गाँधी (भारतीय राजनीतिज्ञ)

शौक साइकिल चलाना
पसंदीदा राजनेता ज्ञात नही
मृत्यु तिथि 21 मई 1991

मैने  आपके साथ “राजीव गाँधी की जीवनी” साझा की है आपको यह पोस्ट किसी लगी। कृपया हमे कमेंट करके जरूर बताये।