Kumar Vishwas

Koi Deewana Kehta Hai, Koi Pagal Samjhta Hai Hindi Kavita

दोस्तों वैसे तो ये पोस्ट internet पर बहुत बार शेयर की गयी है लेकिन इसे एक और बार शेयर करने का मन कर रहा है because ये है ही इतनी अच्छी. मैंने इसे इतनी बार सुना है की आप सोच भी नहीं सकते. शायद आपने भी सुना हो. जी हाँ वही मशहुर कविता – Koi deewana kehta hai, koi pagal samjhta hai. 

मुझे यह कविता (कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है ) बहुत ज्यादा पसंद है इसलिए इसे में इसे आपके साथ शेयर कर रहा हूँ. I’m Sure ये आपको पसंद आयेगी.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है कविता

Dr. Kumar Vishwas

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा

 

Koi deewana kehta hai, koi pagal samjhta hai Poem in English

Koi deewana kahta hai, koi pagal samajhta hain
Magar dharti ki bechani ko bs badal samajhta hain
Mai tujhse dur kitna hun, tu mujhse dur kitni hain
Ye tera dil samajhta hai ya mera dil samajhta hain

Mohabbat ek ahsason ki paawan ki kahani hain
Kabhi kabira diwana tha kabhi meera diwani hain
Yha sab log kahta hai, meri aakhon mai aansu hain
Jo tu samjhe to moti hain, jo na samjhe to pani hain

Samandar peer ka andar hai, lekin ro nahi sakta
Ye aansu pyar ka moti hai, esko kho nahi sakta
Meri chahat ko dulhan tu bana lena, magar sun le
Mo mera ho nhi paya, wo tera ho nahi sakta

Bhramr koi kumudini mar machal baitha to humgana
Hamare dil mai koi khwab pal baitha to humgama
Abhi tak dub kar sunte the har kissa muhabbat ka
Main kisse ko hakiquat mai badal baitha to hungana

 

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है Video

 

Kumar vishwas की ये कविता आपको ये कविता कैसे लगी हमें कमेंट करके जरुर बताएं. और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करना न भूलें.