कहानियां

दिए की गर्मी – Birbal Akbar Stories

diye ki garmi

एक दिन कड़ाके की सर्दी में रात को बादशाह अकबर और उनका चतुर मंत्री बीरबल महल के पीछे बगीचे में सेर कर रहे थे.

बादशाह कटे हैं बीरबल इतनी भयंकर सर्दी पड़ रही है. तुम्हें क्या लगता है? ऐसी सर्दी में कोई सारी रात पानी में खड़ा रह सकते हैं?

बीरबल कहते हैं – नहीं बिल्कुल जहापनाह, पर अगर ईनाम रखा जाए तो शायद उस लालच में कोई खड़ा रहने के लिए तैयार भी हो सकता है.

बादशाह कहते हैं – ठीक है तो फिर क्या तुम ऐसे किसी आदमी को ला सकते हो ठीक है?

बीरबल कहते हैं- जहांपनाह मैं कोशिश करता हूं.

दूसरे दिन बीरबल ने अपने एक गरीब पड़ोसी को अपने घर बुलाया. और पूछा – क्या तुम सारी रात ठंडे पानी में खड़े रह सकते हो? अगर तुम कर सके तो बादशाह से तुम्हें बहुत बड़ा इनाम मिलेगा. बोलो, कर सकोगे?

गरीब आदमी ने कहा – क्यों नहीं मैं जरूर खड़ा रहूंगा.

हकीकत में वह आदमी सारी रात उस कड़ाके की सर्दी में पानी में खड़ा रहा. बादशाह ने उस पर नजर रखने के लिए अपने दोस्त सैनिक तैनात किए थे.

दूसरे दिन सुबह जब बादशाह उस गरीब आदमी को मिलने आया तो उन्होंने कहा – अरे कमाल है इस ठंडे पानी को तुमने रात भर कैसे सहन किया?

गरीब आदमी ने कहा – महाराज आपके महल के दीए की रोशनी यहां आ रही थी. उस रोशनी को देखते हुए मैं रात भर खड़ा रहा.

बादशाह कहते है – इसका मतलब यह है की महल के दीए की गर्मी के कारण तुम रात भर इस ठंडे पानी में खड़े रह सके. तुम्हें कोई नाम नहीं मिलेगा.

बेचारा गरीब आदमी निराश होकर वहां से चला गया. पर जब बीरबल को इस बात का पता चला तो उसने निश्चय किया कि कुछ भी करके इस गरीब आदमी को उसका इनाम मिलना ही चाहिए.

दूसरे दिन बहुत देर तक बादशाह अपने लिए भोजन की राह देखते रहे पर भोजन का कहीं पता ही नहीं था इसलिए हकीकत जानने के लिए बादशाह रसोईघर में गए और देखते है की खाने के बर्तन को आग से काफी उचाई पर रखकर खाना बनाया जा रहा हैं.

ऐसा देखकर बादशाह कहते है – यह तो मूर्खता है. अगर तुम बर्तन इतनी उचाई पर रखोगे तो भोजन पकेगा कैसे?

वही खड़े बीरबल ने खा – हां, क्यों नहीं पकेगा. जनाब, अगर ठंडे पानी में खड़े व्यक्ति को दूर महल के दीए की गर्मी मिल सकती है तो यह बर्तन तो आपसे केवल कुछ ही दूरी पर है तो फिर इसमें खाना क्यों नहीं बन सकता. अब बादशाह को अपनी गलती का एहसास हुआ और फिर उसने उस गरीब आदमी को बुलाकर उसे उसका इनाम दे दिया. सोने का टाइम बताओ

नोट: अकबर बीरबल की कहानियों का संग्रह पढने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे.

 → Akbar Birbal Stories in Hindi