Main Tumhe Dhoondhne Swarg Ke Dwar Tak – Kumar Vishwas

Dr. Kumar Vishwas

 मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक – कुमार विश्वास

मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक
रोज़ जाता रहा, रोज़ आता रहा
तुम ग़ज़ल बन गईं, गीत में ढल गईं
मंच से मैं तुम्हें गुनगुनाता रहा

ज़िन्दगी के सभी रास्ते एक थे
सबकी मंज़िल तुम्हारे चयन तक रही
अप्रकाशित रहे पीर के उपनिषद्
मन की गोपन कथाएँ नयन तक रहीं
प्राण के पृष्ठ पर प्रीति की अल्पना
तुम मिटाती रहीं मैं बनाता रहा

एक ख़ामोश हलचल बनी ज़िन्दगी
गहरा ठहरा हुआ जल बनी ज़िन्दगी
तुम बिना जैसे महलों मे बीता हुआ
उर्मिला का कोई पल बनी ज़िन्दगी
दृष्टि आकाश में आस का इक दीया
तुम बुझाती रहीं, मैं जलाता रहा

तुम चली तो गईं, मन अकेला हुआ
सारी यादों का पुरज़ोर मेला हुआ
जब भी लौटीं नई ख़ुश्बुओं में सजीं
मन भी बेला हुआ, तन भी बेला हुआ
ख़ुद के आघात पर, व्यर्थ की बात पर
रूठतीं तुम रहीं मैं मनाता रहा

– कुमार विश्वास

https://desibabu.in/wp-admin/options-general.php?page=ad-inserter.php#tab-2

Main Tumhe Dhoondhne Swarg Ke Dwar Tak

Mai tumhe dhundhne Swarg ke Dwar Tak
Roj jata Raha roj aata Raha
Tum ghazal ban gayin, geet Mein Dhal Gayin
Manch se mai tumhe gungunata Raha

Zindagi ke sabhi Raste ek The
SabKi Manzil Tumhare Tak rahi
Aprakhashit Rahe per ke Upanishad
Mann Ki Gopan Kathayein Nayan Tak Rahi
Praan ke prashth par Preeti ki Alpana
Tum Mitati rahi main banata Raha

Ek Khamosh Halchal Bani Zindagi
Tera Thahra Hua Jal bani Zindagi
Tum bina Jaise Mahlon Main bita hua
Urmila ka Koi pal bani Zindagi
Drishti Aakash mein aas ka Ek Diya
Tum Bujhati Rahi, Main jalata Raha

Tum Chali to Gayi, Mann Akela hua
Teri Yaadon Ka Purjor mela hua
Jab Bhi lauti Nayi Khushbuon Main Saji
Mann bhi Bela hua, Tan Bhi Bela Hua
Khud ke Aaghat Par, Vyartha ki Baat par
Ruthti Tum Rahi Mein Manata Raha

– Kumar vishwas

आपको कविता  Main Tumhe Dhoondhne Swarg Ke Dwar Tak कैसी लगी हमें कमेंट करके बताएं.