Hai Preet Jahan Ki Reet Sada Lyrics

Hai Preet Jahan Ki Reet Sada Lyrics In Hindi | Hai Preet Jahan Ki Reet Sada Song Lyrics

Movie – पूरब और पश्चिम (1970)
Music – कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics – इन्दीवर
Performed By – महेंद्र कपूर


Jabb zhero diya mere bhaarat ne,
Bhaarat ne mere bhaarat ne,
Duniya ko tab ginati aayi,
Taaron ki bhasha bharat ne,
Duniya ko pehli hai sikhalayi,

Deta na dashamlo bharat to,
Yuhh chaand pe jaana mushkil tha,
Dharati aur chaand ki doori ka,
Andaazha lagana muzhkil tha,

 Sabhyatha jaha pehle aayi,
Pehle janmi hai jaha pe kala,
Apna bharat woh bharat hai,
Jiske picche sansar chala,
Sansar chala aur aage badha,
Yuh aage bada badhata hi gaya,
Bhagwan kare yeh aur badhe,
Badhata hi rahe aur phule phale..2

Hmmm…ohhoo..
Hai preet jaha ki reet sada…3
Main geet waha ke gata hoon,
Bharat ka rehnewala bharat ki baat sunata hoon,
Hai preet jaha ki reet sada,

Kale gore ka bhed nahi,
Harr dil se hamara naata hai,
Kuch aur na aata ho humko,
Hume pyar nibhana aata hai,
Jisse mann chuki saari duniya..2
Main baat wahi dohrata hoon,
Bharat ka rehnewala bharat ki baat sunata hoon,
Hai preet jaha ki reet sada,

https://desibabu.in/wp-admin/options-general.php?page=ad-inserter.php#tab-2

Jeete ho kissi ne desh toh kya,
Humne toh dilon ko jeeta hai,
Jaha ram abhi tak hai nar main,
Naari main abhi tak seeta hai,
Jitane pawan hai log jaga..2
Main neet neet shish zhukata hoon,
Bharat ka rehnewala bharat ki baat sunata hoon,

Ohhoo..ohho..

Itani mamata naddiyon ko bhi,
Jaha maata kehke bulate hai,
Ohooo..
Itana aadar insaan toh kya,
Patthar bhi pooje jaate hai,
Uss dharti pe maine janam liya..2
Yeh soch yeh soch ke main itarata hoon,
Bharat ka rehnewala bharat ki baat sunata hoon,

Hai preet jaha ki reet sada…
Ohhoo..ohho..


है प्रीत जहाँ की रीत सदा लिरिक्स

जब ज़ीरो दिया मेरे भारत ने,
भारत ने मेरे भारत ने,
दुनिया को तब गिनती आयी,
तारों की भाषा भारत ने,
दुनिया को पहले सिखलायी,देता ना दशमलव भारत तो,
यूँ चाँद पे जाना मुश्किल था,
धरती और चाँद की दूरी का,

अंदाज़ा लगाना मुश्किल था,

सभ्यता जहाँ पहले आयी,
पहले जनमी है जहाँ पे कला,
अपना भारत वो भारत है,
जिसके पीछे संसार चला,
संसार चला और आगे बढ़ा,
यूँ आगे बढ़ा, बढ़ता ही गया,
भगवान करे ये और बढ़े,
बढ़ता ही रहे और फूले-फले..2

Hmmm…ohhoo..
है प्रीत जहाँ की रीत सदा..3
मैं गीत वहाँ के गाता हूँ,
भारत का रहने वाला हूँ,
भारत की बात सुनाता हूँ,काले-गोरे का भेद नहीं,
हर दिल से हमारा नाता है,
कुछ और न आता हो हमको,
हमें प्यार निभाना आता है,
जिसे मान चुकी सारी दुनिया..2
मैं बात वो ही दोहराता हूँ,
भारत का रहने…जीते हो किसी ने देश तो क्या,
हमने तो दिलों को जीता है,
जहाँ राम अभी तक है नर में,
नारी में अभी तक सीता है,
इतने पावन हैं लोग जहाँ..2
मैं नित-नित शीश झुकाता हूँ,
भारत का रहने…

Ohhoo..ohho..

इतनी ममता नदियों को भी,
जहाँ माता कह के बुलाते है,

Ooooo..
इतना आदर इन्सान तो क्या,
पत्थर भी पूजे जातें है,
उस धरती पे मैंने जन्म लिया..2
ये सोच के मैं इतराता हूँ,
भारत का रहने…
Hai preet jaha ki reet sada…
Ohhoo..ohho.